Posts

Showing posts from 2008

ख्वाब

रात भर डूबता उगता रहा इक ख्वाब
तुम्हारी आँखो से गिरा
मेरी पलकों पे सजा
रात भर दूधिया चाँदनी में
घुलता रहा एक ख़वाब....
पेड़ों के पीछे-चाँद के साथ साथ-
बादलों के संग चलता रहा एक ख़वाब.....
ओस से गीला
ठंड में दुबका
सपनो की चादर बुनता रहा एक ख़वाब.........

विश्व एड्स दिवस --१ दिसम्बर

Image
आज मैंने उत्तरखंड राज्य ऐड्स नियंत्रण समिति और उमा द्वारा आयोजित वर्कशॉप में भाग लिया ...जन जागरण में महिलाओं की भूमिका पर , उनके अहम् रोल पर चर्चा की गई AIDS जैसे खतरनाक बीमारी की कैसे रोकथाम की जा सकती है .....Prevention is better than cure......Awareness के लिए युवा वर्ग और महिलाएं आगे आयें और समाज को एक मजबूत दिशा दें ....

Glory in winter garden

Image
in

शुभ दीपावली

Image

gazal--by Jagjit singh

Apni Marzi Se Kahan Apni Safar Ke Hum Hai
Rukh Hawaaon Ka Jidhar Ka Hai Udhar Ke Hum Hain
Pehle Har Cheez Thi Apni Magar Ab Lagta Hai
Apne Hi Ghar Mein Kisi Doosre Ghar Ke Hum Hain
Waqt Ke Saath Mitti Ka Safar Sadiyon Se
Kisko Maaloom Kahan Ke Hain Kidhar Ke Hum Hain
Chalte Rehte Hain Ke Chalnaa Hai Musaafir Ka Naseeb
Sochte Rehte Hain Kis Raah Guzar Ke Hum Hain

swap -- स्वैप --उत्तराखंड ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम

स्वैप उत्तराखंड के समस्त गांवों को ( जो पेयजल से वंचित हैं ) पेयजल देने के लिए वर्ल्ड बैंक की सहायता से चलाया जा रहा एक महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट है जिसको लेकर राज्य सरकार , पेयजल विभाग और पेयजल सचिव अत्यन्त गंभीर हैं ...लगता है कि
अख़बारों में इस प्रोग्राम को लेकर कुछ भ्रांतियां है , लेकिन अब जिस गति से प्रोग्राम चलाया जा रहा है , हम अपने lakshy को प्राप्त करने में सफल होंगें ...माह दिसम्बर तक प्रथम चरण कि सभी योजनायें पूर्ण हो जायेगी ....और ग्रामीणों को पेयजल उपलब्ध होगा
----नीलिमा गर्ग

my favourite poem--- by Amrita Pretam

चाँद सूरज जिस तरह
एक झील में उतरतें हैं
मैंने तुम्हे देखा नही
कुछ नक्श से उभरते हैं
वायदों को तोड़ती है
एक बार ही ये जिन्दगी
कुछ लोग हें मेरी तरह
फ़िर एतबार करते हें
चाँद का चेहरा , सबने देखा है चाँद में चेहरा हमने देखा है ---रात के आँचल में , बूटे सा सजा चाँद अम्बर के सीने में , यादों सा खिला चाँद पर्वतों के पीछे से , झांकता चाँद पत्तों के झुरमुट से हिलता डुलता चाँद हवा के झोंके से सरसराता चाँद सर्दी की रात में कंपकपाता चाँद सितारों की दुनिया में अकेला तनहा चाँद यादों में हौले से दस्तक देता चाँद --
कन्या
जगत की जीवनदायिनी शक्ति
क्यूँ है शापित जनम से
जन्म लेने के अधिकार से वंचित क्यूँ है ?
प्रकृति का कोमल उपहार
भोर की उजली किरण
जीवन की प्रथम कलि
खिलने से पहले ही मुरझाने को विवश क्यूँ है ?
कन्या
माँ ,बेटी, बहन है
जन्मदायिनी माँ की आंख का आंसू क्यूँ है ?

UNIQUE SINGAPORE

UNIQUE SINGAPORE

Although I have been to Paris, Ghant, Brussells and Singapore, I found Singapore very enchanting and unique in many ways. This is a place where I experienced the harmonious blend of cultures, art & architecture. It attract with its lush greenery, spiky shells of Esplanade and chick designer boutiques along Orchard Road. Beneath the impressive skyscrapers and gleaming infrastructure, there lies the true modern city where 21st century hi-tech merges wonderfully with ageold historic culture. This is perhaps most welcoming island within palm fringed beaches, clear blue water and friendly people with their warm and welcoming smiles. Singapore is famous for under water world in nature parks, spectacular National Orchid garden, Sentosa Island, Night Safari, Jurong Bird park, Singapore river, Raffles landing site, Little India, Chinatown and of course Water Hub. Their Mass Rail Transit (M.R.T.) system is very convenient.

Paris is beautiful in its own way with Eiffel Tower, …

सावन

रुकी रुकी सी बारिशों के बोझ से दबी दबी
झुके झुके से बादलों से -
धरती की प्यास बुझी
घटाओं ने jhumkar मुझसे कुछ कहा तो है
बूंदे मुझे छू गई -
तेरा ख्याल आ गया
सोंधी खुशबू वाला पानी तुझसे भी कुछ कहता होगा
बादल ने बारिश के हाथों
तुझको भी कुछ भेजा होगा
मेघों ने बरसकर ,
तुझसे कुछ कहा है क्या -
सावन की रिमझिम में
तेरा ख्याल आ गया

---नीलिमा गर्ग

Badrinath Himalaya........How beautiful

Image

my favourite najm ---by Guljar

नज़्म उलझी हुई है सीने में
मिसरे अटके हुए हैं होठों पर
उड़ते -फिरते हैं तितलियों की तरह
लफ्ज़ काग़ज़ पे बैठते ही नही
कब से बैठा हुआ हूँ मैं जानम
सादे काग़ज़ पे लिखके नाम तेरा
बस तेरा नाम ही मुकम्मल है
इससे बेहतर भी नज़्म क्या होगी-----------------

saahil

साहिल पर खड़े हुए
सरकती रेत क़दमों के नीचे से
जैसे वक्त सरकता जाए मुट्ठी से
दूर क्षितिज पर एक सितारा
आसमान पर टंके ये लम्हे ,पलछिन
यही सच है
शेष है भ्रम --
गुजरता वक्त जिन्दगी का सच है
प्रतिपल बढ़ते कदम ,एक अनजान डगर पर
जिसके आगे पूर्णविराम
चिरनिद्रा चिर्विश्राम !!!

समय

समय
मुट्ठी में बंधी रेत की तरह
फिसल रहा है हाथ से
समय
बँधा क्यूं नही रहता
कुछ ख़ूबसूरत लम्हो की तरह
समय बहता रहता है दरिया की तरह
समय पलट कर नही आता
नही दिखता गुज़रे वक़्त की परछाई
दर्पण में पड़ी लकीरो की तरह

colours of spring

Image
how beautiful is the nature......














SPRING

Want to catch the butterflies
Want to hold the frangrance of flowers
Want to keep the colours of spring
Want to hold the romance.......
Forever and ever....
In my palms.......

aaina

एक सुंदर सी कविता पढ़ी हैं आपके साथ बाँटना चाहती हूँ

आज फिर आईने ने दोहराया
तेरी आँखो में ये नमी सी क्यों है
तू औरत है तो क्या हुया
आख़िर राहे हक में
कमी सी क्यों है

Holi

फागुन आया उड़ रहा

अबीर और गुलाल
होली में सब मस्त हुए

किसका पूछे हाल

बसंती रंगो मे डूबे

खिला हास परिहास

फागुन में मदमस्त हुए सब

छाया उल्लास
सरसों फूली टेसू महका
खिला हरसिंगार
पीली चुनर ओढ़कर
प्रकृति ने किया श्रृंगार .

Impact of polluted water on health

IMPACT OF POLLUTED WATER ON HEALTH

Although water is life saviour, but in some of the states in India polluted water has caused health hazards and increased number of cancer cases. In rural Punjab water has turned into poison because of excess of pesticides in groundwater. A study has been carried out to see the effects of pesticides on the health of villagers and it has some alarming findings which are as follows.

· Evidence of genetic damage in some cases.
· DNA mutations in 65% of the blood samples.
· Significantly high rate of miscarriages among women and slow growth in children.
· High concentration of heavy metals such as mercury, copper, cadmium, chromium and lead in drinking water. Evidence of these metals entering the food chain.
· Pesticides detected in vegetables, blood as well as human and cattle milk.
· Gastrointestinal skin, eye, dental and bone problems significantly higher in these areas compared with villages not in proximity of drai…

change Management

WORKSHOP ON CHANGE MANAGEMENT FOR SECTOR PROFESSIONALS OF UTTARAKHAND RURAL DRINKING WATER AND SANITATION

I was lucky to attend a workshop for change management held in National Institute of Administrative Research, Lal Bahadur Shastri Natioanl Academy of Administration, Mussoorie for Sector Professionals of Uttarakhand Rural Drinking Water and Sanitation on 30th November and 1st December 2007.

The workshop was inaugurated by Shri Alok Kumar, Executive Director, NIAR, LBSNAA and later Shri J.S. Khuswah in his keynote address talked of the importance of change management in Sector Wide Approach Programme. Dr. R.P. Juyal, Consultant, NIAR, LBSNAA stressed the need of community participation and mobilization.

Issues of attitudinal and behavioral change amongst the Water Sector Professionals and the Engineers need priority action. Proactive action, empathetic listening, social engineering and partnership based community management are seen as the new drivers of change. This requires paradigm…