Samay

समय
मुट्ठी में बंधी रेत की तरह
फिसल रहा है हाथ से
समय
बँधा क्यूं नही रहता
कुछ ख़ूबसूरत लम्हो की तरह
समय
बहता रहता है दरिया की तरह
समय पलट कर नही आता
नही दिखता गुज़रे वक़्त की परछाई
दर्पण में पड़ी लकीरो की तरह

Comments

वाह! कविता तो बहुत अच्छी है।
हिन्दी ब्लॉग्स(चिट्ठों) के बारे मे ज्यादा जानकारी पाने के लिए नारद पर पधारें।

एक और निवेदन, अपनी पोस्ट के शीर्षक अंग्रेजी मे रखें, ताकि बाकी एग्रीगेटर भी उन्हे अपने यहाँ दिखा सकें।

Popular posts from this blog

२२ मार्च - विश्व जल दिवस

HOLI