समय

समय
मुट्ठी में बंधी रेत की तरह
फिसल रहा है हाथ से
समय
बँधा क्यूं नही रहता
कुछ ख़ूबसूरत लम्हो की तरह
समय बहता रहता है दरिया की तरह
समय पलट कर नही आता
नही दिखता गुज़रे वक़्त की परछाई
दर्पण में पड़ी लकीरो की तरह

Comments

pallavi trivedi said…
hi...short and sweet poem. i liked.
मेनका said…
good one...n beautifull photos of flowers.i like flowers very much.
thanks for visiting my blog.
Dharmveer said…
gar samay ko koi rok sakta
to yadein nahi ban pati
isliye lamhe phisltey rehtey hain
mutthi se phisltey reit ki tarah
aur hum use pakad kar nahi rakh patey.

You write nice poem Neelima!
bahut sundar,adbhut ban padee hai waakai....
लाजवाब रचना...

Popular posts from this blog

२२ मार्च - विश्व जल दिवस

HOLI