स्वर्ण मन्दिर अमृतसर

स्वर्ण मन्दिर में आत्मिक शान्ति का अनुभव होता है और जलियावाला बाग १९१९ के निर्मम नरसंहार की याद दिलाता है अमृतसर में वाघा बॉर्डर की परेड भी शानदार है ...यह यात्रा एक ना भूलनेवाला अनुभव..........

Comments

M VERMA said…
बहुत सुन्दर चित्र्
Udan Tashtari said…
बढ़िया चित्र.
MUFLIS said…
mn ko sukoon bakhshtaa hua
paavan chitra....
abhivaadan .

Popular posts from this blog

२२ मार्च - विश्व जल दिवस

my favourite najm ---by Guljar

HOLI