my favourite poem--- by Amrita Pretam

चाँद सूरज जिस तरह
एक झील में उतरतें हैं
मैंने तुम्हे देखा नही
कुछ नक्श से उभरते हैं
वायदों को तोड़ती है
एक बार ही ये जिन्दगी
कुछ लोग हें मेरी तरह
फ़िर एतबार करते हें

Comments

adil farsi said…
best kavita ha.. likhti rahe ..mere blog par swagat ha

Popular posts from this blog

२२ मार्च - विश्व जल दिवस

HOLI

स्वर्ण मन्दिर अमृतसर